Recent Comments

    test
    test
    OFFLINE LIVE

    Social menu is not set. You need to create menu and assign it to Social Menu on Menu Settings.

    May 28, 2024

    Chandrayaan 3: चंद्रयान 3 चंद्रमा की सतह के और नजदीक पहुंचा, पढ़े ISRO का लेटेस्ट अपडेट।

    1 min read

    ISRO: ‘चंद्रयान-3’ चांद की सतह के और नजदीक पहुंच गया है , इस बात की जानकारी भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने दी।
    Chandrayaan 3 Update: भारत का तीसरा महत्वाकांक्षी चंद्र मिशन ‘चंद्रयान-3’ बुधवार (9 अगस्त) को चांद की सतह के और नजदीक पहुंच गया है , भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने बुधवार को यह जानकारी दी , वह अब 174 किमी x 1437 किमी छोटी अंडाकार कक्षा में घूम रहा है।

    इसरो ने ट्वीट करते हुए कहा है, ”चंद्रयान-3 चंद्रमा की तीसरी ऑर्बिट में पहुंच गया है , वह चांद के और करीब आ गया है , आज की गई प्रक्रिया के बाद चंद्रयान-3 की कक्षा घटकर 174 किमी x 1437 किमी रह गई है.”

    जारी की थीं चांद की तस्वीरें
    इसरो ने बताया कि चंद्रयान का अगला ऑपरेशन 14 अगस्त 2023 को होगा , इतना ही नहीं, महत्वाकांक्षी मिशन के आगे बढ़ने के साथ ही चंद्रयान-3 की कक्षा को धीरे-धीरे कम करने और इसकी स्थिति चंद्र ध्रुवों के ऊपर करने के लिए इसरो सिलसिलेवार कवायद कर रहा है , इससे पहले जब 5 अगस्त को चंद्रयान-3 चंद्रमा की पहली कक्षा में पहुंचा था तो उसने चांद की तस्वीरें जारी की थीं।

    14 जुलाई को लॉन्च हुआ था चंद्रयान-3
    बता दें कि चंद्रयान-3 को 14 जुलाई को लॉन्च किया गया था , इसे आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से प्रक्षेपण यान मार्क-3 के जरिए लॉन्च किया गया था , उस समय अधिकारियों ने बताया था कि प्रणोदक मॉड्यूल ‘लैंडर’ और ‘रोवर’ को 100 किलोमीटर तक चंद्रमा की कक्षा में ले जाएगा , इसमें चंद्रमा की कक्षा से पृथ्वी के ध्रुवीय मापन का अध्ययन करने के लिए एक ‘स्पेक्ट्रो-पोलरमेट्री’ पेलोड भी जोड़ा गया है।

    चंद्रयान-2 की नहीं हो पाई थी सॉफ्ट लैंडिंग
    गौरतलब है कि सितंबर 2019 में भारत के दूसरे चंद्र मिशन ‘चंद्रयान-2’ की चंद्रमा की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग नहीं हो सकी थी , इसे चंद्रमा की सतह के दक्षिण ध्रुव के पास उतरना था , वह जब चंद्रमा की सतह पर उतरने वाला था तभी लैंडर विक्रम से उसका संपर्क टूट गया था , प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी उस समय ऐतिहासिक क्षण के गवाह बनने के लिए बेंगलुरु स्थित इसरो के मुख्यालय में पहुंचे थे।

    About The Author

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *