Recent Comments

    test
    test
    OFFLINE LIVE

    Social menu is not set. You need to create menu and assign it to Social Menu on Menu Settings.

    July 20, 2024

    G-20: ‘बैग में संदिग्ध उपकरण, होटल में प्राइवेट इंटरनेट की मांग’, समिट के दौरान चीन के डेलिगेशन से जुड़े विवा।

    1 min read

    एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि प्रतिनिधियों के पास एक अजीब से आकार का बैग था। होटल के कर्मचारियों को उन बैग को रखने के लिए कहा गया। उसके अजीब से आकार को देखकर कर्मचारियों को कुछ संदेह पैदा हुआ।
    भारत में नौ और दस सितंबर को जी-20 शिखर सम्मेलन आयोजित किया गया था। इस सम्मेलन में शामिल होने के लिए दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के नेता नई दिल्ली में पहुंचे थे। इनमें चीन का एक प्रतिनिधिमंडल भी शामिल था। इन नेताओं के रुकने से लेकर खाने-पीने तक के लिए बढ़-चढ़कर तैयारियां की गई थीं। इसी को लेकर एक चौंकाने वाली जानकारी सामने आ रही है। बताया जा रहा है कि नई दिल्ली के जिस पांच सितारा होटल में चीनी प्रतिनिधिमंडल रुका था, उसे स्थिति संभालने में कई परेशानी हो रही थी। दरअसल, एक के बाद एक कई अजीब घटनाएं घट रही थीं।
    एक बैग को लेकर मचा हड़कंप
    समिट के लिए भारत आए चीन के प्रतिनिधिमंडल को ताज पैलेस होटल में ठहराया गया था। यहां ब्राजील का प्रतिनिधिमंडल भी मौजूद था। एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि चीन के प्रतिनिधियों के पास एक अजीब से आकार का बैग था। जैसे ही यह लोग होटल पहुंचे तो सुरक्षा कर्मचारियों की नजर उस पर टिक गई। फिर भी डिप्लोमेटिक प्रोटोकॉल को ध्यान में रखते हुए सुरक्षाकर्मियों ने बैग को अंदर ले जाने की अनुमति दे दी। हालांकि, थोड़ी देर में होटल के एक कर्मचारी ने चौंकाने वाली खबर दी। उसने बैग के अंदर ‘संदिग्ध उपकरण’ होने की सूचना दी और इसके बाद 12 घंटे का ड्रामा शुरू हो गया।
    चीनी प्रतिनिधिमंडल ने कराई जांच
    जल्द ही यह जानकारी अधिकारियों तक पहुंच गई। होटल में तुरंत सक्रियता बढ़ गई। टीम से बैग को स्कैनर से पास कराने को कहा गया, लेकिन चीन का प्रतिनिधिमंडल इस बात पर नहीं माना। इसके बाद माहौल तनावपूर्ण हो गया। काफी देर तक अधिकारी प्रतिनिधियों को समझाते रहे, लेकिन वो नहीं माने। हालांकि, सुरक्षा कर्मचारी भी इस पर डटे रहे कि या तो बैग की जांच कराएं नहीं तो तुरंत वापस इसे भेजा जाए।

    बैग में क्या?
    सुरक्षा दल उस कमरे के बाहर खड़े थे, जहां संदिग्ध बैग मौजूद था क्योंकि चीनी पक्ष विचार कर रहा था कि बैग के साथ क्या किया जाए। इसके बाद माहौल तनावपूर्ण हो गया और 12 घंटे तक ड्रामा चलता रहा। मामला तब शांत हुआ जब उस रहस्यमयी बैग को चीनी दूतावास भेज दिया गया। हालांकि, बैग वापस भेजे जाने के कारण यह रहस्य बनकर रह गया कि बैग में क्या था।

    वही, यह भी जानकारी सामने आई कि चीन से आए प्रतिनिधियों ने अपने लिए एक अलग और प्राइवेट इंटरनेट कनेक्शन की मांग की थी। हालांकि, होटल के स्टाफ ने इससे साफ इनकार कर दिया था।

    रविवार को संपन्न हुआ जी-20
    बता दें कि जी-20 शिखर सम्मेलन बीते रविवार को खत्म हो गया है। इसके बाद ये खबर मीडिया में आई है। इसी तरह अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन के काफिले की सुरक्षा में चूक का मामला सामने आया था। उस काफिले में लगी एक गाड़ी का ड्राइवर अपने प्राइवेट पैसेंजर को लेने दूसरे होटल पहुंच गया था। बाद में सुरक्षाबलों ने उसे पकड़ा था।

    About The Author

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *