Recent Comments

    test
    test
    OFFLINE LIVE

    Social menu is not set. You need to create menu and assign it to Social Menu on Menu Settings.

    April 16, 2024

    बुखार, सर्दी, खांसी हो तो कराएं कोरोना टेस्ट, राज्य कोरोना एक्शन फोर्स के निर्देश

    1 min read

    पर्यटन के लिए गए नागरिक घर लौट रहे हैं। अगले कुछ दिनों में इनके जरिए कोरोना संक्रमण बड़े पैमाने पर फैलने की आशंका है.

    मुंबई: पर्यटन के लिए निकले नागरिक घर लौट रहे हैं. अगले कुछ दिनों में इनके जरिए कोरोना संक्रमण बड़े पैमाने पर फैलने की आशंका है. इसलिए राज्य कोरोना एक्शन फोर्स द्वारा निर्देश दिए गए हैं कि बुखार, सर्दी, खांसी आदि लक्षण वाले व्यक्तियों की कोरोना जांच कराई जाए।

    पिछले कुछ दिनों से कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है. हालांकि, मरीजों में हल्के लक्षण देखे गए हैं। अस्पताल में भर्ती होने वालों की संख्या भी कम है और मौतों की संख्या भी नहीं बढ़ी है. लेकिन क्रिसमस और नए साल की छुट्टियों पर पर्यटन के लिए गए नागरिक घर लौट आए हैं. इनसे कोरोना वायरस फैलने की आशंका है. इसलिए बुखार, सर्दी, खांसी जैसे लक्षण वाले लोगों का कोरोना वायरस टेस्ट कराया जाना चाहिए। साथ ही संक्रमित पाए जाने पर उनके लगातार संपर्क में आने वाले लोगों की भी कोरोना जांच कराई जाए, ऐसा राज्य कोरोना एक्शन टीम के अध्यक्ष डॉ. रमन गंगाखेड़कर ने सभी अस्पताल नागरिकों को दे दिये हैं.

    कोरोना संक्रमित व्यक्तियों को उपचार के लिए नजदीकी अस्पताल में ले जाना चाहिए, यदि अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता नहीं है, तो यदि संभव हो तो उन्हें 5 दिनों के लिए होम आइसोलेशन में रखा जाना चाहिए। उन्होंने यह भी सुझाव दिया है कि नागरिकों को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि यदि संभव हो तो खिड़कियां बंद किए बिना घर में हवा का संचार हो।

    लक्षण वाले लोगों को मास्क का उपयोग करना चाहिए
    कोरोना के लक्षण वाले मरीजों को दूसरों को संक्रमित होने से बचाने के लिए मास्क का उपयोग करना चाहिए। कोरोना संक्रमित व्यक्तियों को दूसरों से मिलने-जुलने से बचना चाहिए। उच्च जोखिम वाले व्यक्तियों को यथासंभव कोरोना लक्षण वाले व्यक्तियों के संपर्क से बचना चाहिए या संपर्क के दौरान मास्क का उपयोग करना चाहिए। रमन गंगाखेड़कर द्वारा दिया गया।

    यदि आपमें लक्षण हों तो अधिमानतः परीक्षण करवाएं
    रैपिड एंटीजन टेस्ट पॉजिटिव आने पर लक्षणात्मक उपचार दिया जाना चाहिए। यदि लक्षण हैं और रैपिड एंटीजन टेस्ट निगेटिव है तो ऐसे मरीजों की आरटीपीसीआर जांच करायी जाये, ऐसे निर्देश दिये गये हैं.

    About The Author

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *