Recent Comments

    test
    test
    OFFLINE LIVE

    Social menu is not set. You need to create menu and assign it to Social Menu on Menu Settings.

    July 17, 2024

    RBI: मौद्रिक नीति समिति की बैठक में रेपो रेट को अपरिवर्तित रखने का हो सकता है फैसला, विशेषज्ञों ने कही ये बात।

    1 min read

    RBI: मुद्रास्फीति में लगातार गिरावट (वर्तमान में 18 महीने के निचले स्तर पर) और आगे गिरावट की संभावना ने केंद्रीय बैंक को प्रमुख ब्याज दर पर फिर से ब्रेक लगाने के लिए प्रेरित करेगा। मुद्रास्फीति विकसित अर्थव्यवस्थाओं सहित कई देशों के लिए चिंता का विषय रही है, लेकिन भारत अपने मुद्रास्फीति के दायरे को काफी अच्छी तरह से नियंत्रित करने में कामयाब रहा।
    भारतीय रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति की तीसरी बैठक अभी चल रही है और समीक्षा के नतीजे की घोषणा गुरुवार सुबह की जाएगी। आरबीआई आमतौर पर एक वित्तीय वर्ष में छह द्विमासिक बैठकें आयोजित करता है, जहां यह ब्याज दरों, धन की आपूर्ति, मुद्रास्फीति दृष्टिकोण और विभिन्न व्यापक आर्थिक संकेतकों को तय करता है। तीन दिवसीय बैठक मंगलवार को शुरू हुई।
    जून की शुरुआत में अपनी पिछली बैठक में केंद्रीय बैंक की मौद्रिक नीति समिति ने सर्वसम्मति से रेपो दर को 6.5 प्रतिशत पर अपरिवर्तित रखने का फैसला किया था। इसकी अधिकांश विश्लेषकों ने उम्मीद जतायी थी। आरबीआई ने अप्रैल की बैठक में भी रेपो रेट में कोई इजाफा नहीं किया था। रेपो रेट वह ब्याज दर होती है जिस पर आरबीआई दूसरे बैंकों को कर्ज देता है।
    मुद्रास्फीति 18 महीने के निचले स्तर पर, देश ने महंगाई को बेहतर ढंग से नियंत्रित किया
    मुद्रास्फीति में लगातार गिरावट (वर्तमान में 18 महीने के निचले स्तर पर) और आगे गिरावट की संभावना केंद्रीय बैंक को प्रमुख ब्याज दर पर फिर से ब्रेक लगाने के लिए प्रेरित करेगा। मुद्रास्फीति विकसित अर्थव्यवस्थाओं सहित कई देशों के लिए चिंता का विषय रही है, लेकिन भारत अपने मुद्रास्फीति के दायरे को काफी अच्छी तरह से नियंत्रित करने में कामयाब रहा।

    अप्रैल के ठहराव को छोड़कर आरबीआई ने मुद्रास्फीति के खिलाफ लड़ाई में मई 2022 से रेपो दर को संचयी रूप से 250 आधार अंकों से बढ़ाकर 6.5 प्रतिशत किया था। ब्याज दरों को बढ़ाना एक मौद्रिक नीति का साधन है जो आम तौर पर अर्थव्यवस्था में मांग को दबाने में मदद करता है। इससे मुद्रास्फीति को नियंत्रित रखने में मदद मिलती है।

    नवंबर 2022 में आरबीआई महंगई दर को संतोषजनक दायरे में लाने में सफल रही
    भारत की खुदरा मुद्रास्फीति लगातार तीन तिमाहियों के लिए आरबीआई के 6 प्रतिशत के लक्ष्य से ऊपर थी और नवंबर 2022 में आरबीआई इसे संतोषजनक क्षेत्र में वापस लाने में कामयाब रही थी। मुद्रास्फीति लक्ष्य निर्धारण ढांचे के तहत यदि महंगाई लगातार तीन तिमाहियों तक 2-6 प्रतिशत के दायरे से बाहर रहती है तो रिजर्व बैंक को इसके प्रबंधन में विफल माना जाता है। अब देखना यह है कि जून में मुद्रास्फीति में तेजी को देखते हुए आरबीआई लगातार तीसरी बार रेपो दर को अपरिवर्तित रखेगा या इसमें बढ़ोतरी करेगा। आइए जानते हैं कि इस पर बाजार के जानकारों का क्या कहना है?

    स्वास्तिका इन्वेस्टमार्ट लिमिटेड के शोध प्रमुख संतोष मीणा ने कहा, “बाजार रेपो दर में यथास्थिति बनाए रखने की उम्मीद कर रहा है, लेकिन वह मुद्रास्फीति के बारे में रिजर्व बैंक के आकलन और वृद्धि के परिदृश्य को सुनने के लिए उत्सुक है।” नाइट फ्रैंक इंडिया के चेयरमैन व प्रबंध निदेशक शिशिर बैजल ने कहा, “हम उम्मीद करते हैं कि भारतीय रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति (आरबीआई, एमपीसी) रेपो दर को अपरिवर्तित रखेगी क्योंकि भारत में मुद्रास्फीति की दर सहनशीलता की ऊपरी सीमा के भीतर बनी हुई है। इससे रियल एस्टेट क्षेत्र को अपनी मौजूदा गति बनाए रखने में मदद मिलेगी।

    बीते कुछ संशोधनों में रेपो दर में 250 आधार अंकों की वृद्धि हुई
    पिछले कुछ संशोधनों में रेपो दर में 250 आधार अंकों की वृद्धि हुई है और इसके परिणामस्वरूप, होम लोन के लिए आधार उधार दर में 160 बीपीएस की वृद्धि हुई है। पिछले तीन संशोधनों से पूरी तरह से घर खरीदारों पर भार बढ़ा था। इससे खासतौर पर किफायती सेगमेंट में हाउसिंग डिमांड पर असर पड़ना शुरू हो गया था।

    जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के मुख्य निवेश रणनीतिकार वीके विजयकुमार ने कहा, “एमपीसी सब्जियों की ऊंची मुद्रास्फीति के कारण चिंतित होगी। लेकिन चूंकि यह मौसमी कारकों के कारण है, इसलिए मौद्रिक नीति इस संबंध में कुछ नहीं कर सकती है। इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि अर्थव्यवस्था में फिलहाल विकास की मजबूत गति है ऐसे में एमपीसी की ओर से ऐसा कुछ भी करने की संभावना नहीं है जो विकास को प्रभावित करे। इसलिए, मौद्रिक नीति समिति की बैठक में दरों और रुख को अपरिवर्तित रहने की संभावना अधिक है।

    About The Author

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *